The Girl at the Window

Posted: January 11, 2013 in Fiction of My Mind

She was in her bed, cuddled up in the thick layers of her blanket, sleeping in the cold night of January and dreaming in the darkness, about lights that surrounded her with nature in its full colour, which pleased her eyes and soul.

Her hair, which were kept loose, long and deep black, spread over her bed and some glided down her cheeks, her lips, which had no artificial colour on them, were ruby-like, and her eyelids seemed to be protecting her dreams which she was seeing in her deep slumber. It was true that she was sleeping but her beauty wasn’t. It seemed to be livelier, changing all the time as the time passed evenly and she kept tossing and turning in her bed.

Eventually the sun rose from its sleep. She also followed the sun with a silent opening of her eyes which were now exposed to the light. She seemed to have liked her dream more than this truth of waking up. But then she made a little compromise with herself and came down the bed and took a few easy steps to a window near to her. She was then facing the soft incoming wind as soon as she opened the window. Once again a sweet smile filled with happiness appeared through her lips. Nothing is more soothing than morning sun rays in the cold chilly days of winters in Delhi.

webjong_cartoon_girl_03_top-webjong

Outside, opposite to the balcony of their third floor apartment there was a play-ground in which some boys were playing cricket.
Avik saw her at the window and very soon he lost interest in his practice and sat down to watch her, just like the day before and the week before that, and the month before that. He found her smiling. He also smiled many times and wished that she had seen his best smile. He then lost her into the room.

For past couple of months Avik was taking more interest in her than his game. He saw her standing at the window, with her long hair before her body and she was combing it. She was carrying the loveliest smile, one that is meant for few special people, Avik was confident about that.

Avik was a good cricketer. He was the only batsman on which the team work would depend. It was a surprise to the coach to witness him out of form. Avik looked like he had no interest in cricket and sometimes he played like one who didn’t know how to play.

Aayush, his team-mate, once caught him looking secretly at the girl at the window. Avik had to tell his heart.
‘I am in love with that girl. I want to meet her.’

Aayush looked at him fixedly.

‘I think she also like me,’ Avik added

‘How can you say that?’ Aayush asked.

‘She has always smiled at me.’

Aayush then said, ‘Forget her. Give your attention to the game; otherwise you will lose your position in the team.’
 
‘I can’t. You must help me. You live in this same building. So, you can tell her a word or two from me.’

‘Look Avik. She doesn’t love you. And she wasn’t smiling at you.’ Avik wasn’t ready to believe him.

‘The smiles you had seen were the smiles of her personal happiness.’

‘But she smiled whenever I smiled at her’  Avik insisted. ‘I saw her, trust me, I did, each day’ 

‘Leave it Dude’

‘Why?’  Avik asked, this time he was little bit annoyed.

‘Because that girl is blind’  Aayush said with a grave whispering tone

‘What?’, Avik shouted… ‘Blind!’ 

Avik looked towards that window and found her still in good spirits, smiling as usual with the same warmth and  and afterwards she vanished into the room.

Advertisements

Promise

Posted: January 6, 2013 in My Life, So called Poetry, Thoughts

These distances may separate your hands from minePromise
these long roads may divide your heart and mine
but I still have this love for you so divine!
Every time you’re lonely or every time you’re mad
every time you’re angry or every time you’re sad
I wish I could snatch away every problem you had or have
Right now, there’s not much I can do
Except listen and try and brighten your day by my words
so every day I do the best I can to cheer you up
At the same time I know you’ll do the same for me
you fill my world with happiness and bliss
But sometimes I’m afraid that the miles and roads
that separate us might become too much to bear
And you’ll do what u feel is better for you and move on
But I never want to lose you, NEVER
I don’t want to do nothing but please n love you; till the day I die
I will always be by your side
When you laugh and when you cry
From this day forward I make this Promise
And it’s because I know I will keep it
No matter how hard time may be
Or how blue our days may seem
No matter what we go through
No matter what we do
No matter where we are
I promise………
No matter what I will ALWAYS love
And that is my promise ”
A Promise I make just to you..!!

Pain

Posted: December 19, 2012 in So called Poetry, Thoughts

The dark dirty floor of the lonely shedsad-umit-ozkanli
she still remember, no matter what.
The agony as every piece of clothing she had
was getting torn off in fast, tortorous motions. 
And that sweaty, rough hand covering her
mouth as she tried to scream for help. 
The help that never came.
And she screamed despite
the sweaty hand over her mouth 
Her hopes and dreams were over, 
shattered, torn and burned.

The pain was something never felt before, 
it wasn’t the cuts, bruises nor the slaps. 
This pain would never go away or heal.
Then as if time stood still 
She lay wondering what they would think.
She tried so hard to get herself to safety
but she was weak  for every move she made 
felt like the world was crashing, no escapade.

At that moment she prayed that she would die. 
For to live a life with this pain and wound
that would never heal was unbearable. 
As she stopped screaming she thought she had died
The pain was still there but a numbness had arise. 
As she looked up she realized the torture was over 
But she lay there trying to figure out why this all 
happened, and why it had happened to her. 

To this day there isn’t a moment when she
don’t think about that day in the lonely shed. 
The pain and suffering still lurks in her head. 
It isn’t forgotten and never will be, 
for that is how It’ll always be.

But she’s strong willed and determined for she
have this life, and she know she have to live
stronger every day, leaving things behind.
Looking in their eyes, making a statement
no matter what, whatever you may try
I’ll live a life, challenging, bigger and bright.

But no one should feel that way.
No one should cause that pain
For that pain lasts a life time.

अकेली

Posted: December 9, 2012 in Fiction of My Mind
कविता को नए फ्लैट में आये हुए 4 दिन हो गए थे, लगभग सारा सामान भी आ गया था, पर घर अभी तक अस्त व्यस्त था। नया शहर, नए लोग, नयी नौकरी वो भी तरक्की के साथ, एक अलग ही एहसास था, खुद पर ग्रवित होने का। यूँ तो 32 साल में ये पहली बार नहीं जब उसे अपने पर गर्व हुआ हो। वो थी इस ऐसी, और हमेशा से ऐसी, बेटे की चाह में हुई 4 बेटियों में सबसे छोटी। बचपन से माँ को मिलते तानों को सुनती आई थी वो, और तभी से ठान लिया था उसने की कुछ कर दिखाना है , आज वो इस बड़े से अखबार की प्रमुख संपादक है, गरीब महिलाओं के लिए 2 एन. जी. ओ. चलती है, और 2 किताबें भी लिख चुकी है। खिड़की के पास बैठी मुस्कुराती वो पता नहीं कब तक पुरानी बातों को याद करती रही। फिर एकाएक किसी गाड़ी की रिवर्स गियर की टिक टुक टिक टुक से यकायक उसका ध्यान टूटा, एक सबसे ज़रूरी काम तो अभी बाकी है…

-x-x-x-x-x-x-
 
“जी नमस्ते, मेरा नाम कविता है, और में आपके बिलकुल ऊपर वाले फ्लैट में रहती हूँ., नीचे केयर टेकर से आपका नंबर लिया..” 
”जी नमस्ते, कहिए?” 
”मुझें घर में काम करने के लिए एक बाई की जरूरत है तो क्या अपनी बाई को ऊपर भेज देंगी?”
”जरूर भेज दूँगी, वैसे कितने लोग है आप के घर में?” 
”बस मैं अकेली ही हूँ।”
”ओह्ह… अच्छा ठीक है, थोड़ी देर में बाई आ जाएगी तो मैं उसे ऊपर भेज दूंगी।”

‘’जी धन्यवाद”… कहकर उसने  इंटेर्कोम रख दिया। थोड़ी देर बाद, दरवाजे की घंटी बजी तो वाकई बाहर एक बाई को खड़ा पाया, मन में एक खुशी के लहर लहरा गयी…सोचा, चलो एक समस्या का समाधान तो आसानी से हो गया है। बाई से सारी बात तय हो गयी थी वक्त और पैसों को लेकर… और फिर अगले दिन से उसके आने का इंतज़ार भी शुरू हो गया था …लगा कि बाई के हाथ में एक सुदर्शन चक्र है और वो कल से उसके अव्यवस्थित घर की धुरी घुमा देगी। वो अगले रोज़ बाई का इंतज़ार करती रही पर वो नहीं आई। एक दिन और निकल गया पर बाई अभी भी नहीं आई।

-x-x-x-x-x-x-x-

थक हार कर उसके अगले दिन वह परेशान सी लिफ्ट से उतर कर किसी नई बाई की तलाश में मुड़ी ही थी कि सामने से वही बाई दिखाई, बाई उसे देख कर कन्नी काटने की कोशिश में थी… मगर कविता ने उसे पकड़ कर पूछ ही लिया –”सब कुछ तय हो तो गया था फिर तुम आई क्यों नहीं?”

वो सकुचा कर बोली…..”मेमसाहब मैं तो आना चाहती थी पर आपके नीचे वाली आंटी जी ने मना कर दिया आपके यहाँ आने से”
”पर क्यों मना किया और तुमने उनकी बात भी मान ली, क्या तुम्हें और पैसा नहीं चाहिए?’
वो बोली… “पैसा किसे बुरा लगे हैं मेमसाहब, पर आप तो यहाँ हमेशा रहने वाली हो नहीं, उनका काम तो पक्का है न, और वो बोल रही थी कि आप अकेली औरत हो…उन्हे शक है कि कुछ…..कि कुछ…..”

इसके आगे बाई कुछ बोली नहीं और चली गई । और कविता चुपचाप खड़ी उसकी पीठ पर अपने अकेले होने के एहसास को ढूँढने लगी।

समझ ही नहीं पाई कि चुनौतियों को पार करके यहाँ तक पहुँचने के लिए खुद को शाबाशी दे , या नीचे वाली उस आंटी जी की “अकेले” शब्द की मानसिकता पर दुख मनाये।

चश्मा

Posted: December 5, 2012 in Fiction of My Mind

=======
दरवाजा
=======

कितने बरस बीत गए याद नहीं, पर मैं आज भी यहीं हूँ इसी घर के चौखट से लगा हुआ, इस बड़े से घर का मायूस सा पहरेदार, इस बड़े आलीशान घर का दरवाजा। याद है मुझे जब मैं एक पेड़ था, अनंत आकाश और कालजयी धरती के बीच का एक छोटा सा बंधन। शायद इंसान और इंसानियत के बीच का बंधन भी। जब मैं एक बीज था, हजारों सपने थे, हजारो ख्वाहिशें थी, बहुत सारी सच्चाइयों से अनजान, फिर धीरे से सालों तक अपनी जडें जमायी इस धरती में मैंने। एक माँ की तरह ही इस धरती ने मुझे पला और बड़ा किया, मैं हवाओं से खेला और बारिशों में भीगा, चिड़ियों की आवाज़ से मैंने अपने पत्ते फडफडाये और छोटे छोटे बच्चो को कभी अपनी छाया में खेलने दिया  कभी अपने ऊपर चढ़ जाने दिया ।

आज भी देखता हूँ ये सब, पर बस अब मैं चिड़ियों के साथ अपने पत्ते नहीं फडफडाता और हवाओं के साथ खेलता भी नहीं।मैं तब भी इंसान का दोस्त था और आज भी हूँ। मुझे कोई शिकायत नहीं किसी से, बस एक दर्द है, और एक सवाल, क्या कसूर था मेरा ? क्यूँ इंसान ने तब्दील किया मुझे ? क्यूँ वो बारिश अब पहले जैसी नहीं रही ? क्यूँ वो बच्चे मुझसे दूर चले गए ? क्यूँ कोई मदमस्त इंसान रोज़ मुझे  ठोकर मारता है ? सालों से बस यही जवाब ढून्ढ रहा हूँ, अगर आपको पता हो तो…

========
     महानता
========

अपने वक्त का मै एक महान नेता था, बहुत महान। एक ऐसा नेता जिसके सामने सारे विपक्ष के नेताओ की बोलती बन्द रहती थी. मैने अपने जीते जी जनता की भलाई के लिए कई अच्छे और नेक काम भी किये.
मेरे मरने के बाद मेरी इन्ही अच्छाइयों से कुपित हो कर मेरे इलाके के लोगो ने मेरी एक मूर्ति शहर के चौरहे पर लगा दी.
बडा जुलूस हुआ, बहुत लोग इक्टठा हुए, मेरे बारे मे भाषण भी हुए, मेरी कई सारी आच्छईयो (जो मुझे भी नही पता थी) से जनता को अवगत कराया गया. खूब फूल चढे, जब मेरे दुश्मनो ने भी मेरी तारीफ मे बढ चढ कर हिस्सा लिया तो मुझे बडा अच्छा लगा.

अभी मेरी मुर्ति लगे कुच्छ ही दिन हुए थे, मेरे गले की फूलो वाली माला अभी सूखी भी नही थी कि जाने कहॉ से आकर कौऔ ने मेरे मजबूत बाजुओ को अपना आशियाना और मेरे सर को अपने खेलेने का स्थान बना लिया. इतना दुख तो मै फिर भी बर्दाश्त कर लेता, पर कुछ दिन बाद ही दोपहर मे देखता हू, एक शराबी इधर उधर देखता हुआ मेरे पास आया और छि छि… उसने भी मुझे पवित्र कर दिया.

जैसे जैसे दिन बीतते गये मेरी हालत बद से बद्तर होती गयी, क्या क्या सितम नही हुए मेरे साथ, पशु पक्षियों की बात ही नही, जिस जनता के लिये मैने क्या कुछ नही किया, उसने भी मेरा क्या कुछ नही किया….. भगवान ऐसा दिन किसी को ना दिखाए, आठ आठ आंसू रोता रहा मै अपनी हालत देख कर. हर व्क्त एक ही प्रार्थना करता रहा, मुझे मुक्त कर दो… मुझे मुक्त कर दो…

भगवान के घर देर है अन्धेर नही. एक दिन सरकार की नयी नीतियो से चिढ कर इलाके के कुछ नवजवानो ने सरकार को सबक सिखाने की ठानी और जरिया बना मै…

सुबह होने से पहले ही सब लडके मेरी मुर्ति के सामने इकट्ठा  हुए… और… मूर्ति तोड़ने के लिए एक एक डंडा पड़ता गया, और बस चंद ही घंटो में दूर हो गया मेरी महानता का गुरुर … सच कहें तो महानता का गम। 


======
चश्मा
======

“अरे मुझे ज़रा ऊपर उठाओ यार, मैं गिर रहा हूँ.. मैं यहाँ तुम्हारी नाक के ऊपर… तुम्हारा चश्मा…”
“ओहो” मैंने नीचे गिरते अपने चश्मे को संभाला। “लेकिन तुम बोल कैसे सकते हो… तुम तो जड़ वास्तु हो… चीज़ें बात नहीं करती… मैं शायद नींद में हूँ।”
“नहीं, तुम नींद में नहीं हो, मैं ही हूँ, तुम्हारा चश्मा”  सच में मेरा चश्मा बोल रहा था, और शायद मैं भी नींद में नहीं था।
“नहीं भाई न ही ये सपना है और न ही तुम नींद में हो, ये मैं ही हूँ, टेप से जुड़ जुड़ कर थक चूका तुम्हारा पुराना चश्मा… कुछ करो, अब तो मेरी हिम्मत जवाब देनी लगी है।”
मैंने कुछ तो बोलना चाहा, पर दबी सी शुर्घुराहत के आलावा गले से कुछ और ना निकल सका।

आज इतवार है,सोचा थोड़ी चैन की नींद ले लूं, एक ही दिन तो मिलता है कागज़ कलम घिसने के आलावा, और इस भागमभाग के बीच इतवार की नींद ही हम लोगो की जन्नत है। वैसे मैं सुधीर, एक छोटी सी कंपनी में क्लर्क हूँ, और एक छोटी सी बिटिया भी है। और गरीब के बच्चे बचपन में ही समझदार हो जाते हैं, वो भी है। कितने वक़्त से सोच रहा हूँ एक नया चश्मा बनवा लूँ, पर अभी तक ये संभव न हो पाया है, बड़े बाबु इस बार डी. ए. की किश्त में कुछ इजाफा कर दें तो जरुर एक नया चस्मा बनवा लूँगा, पर तीन सालों से यही तो सोच रहा हूँ, हर दिन कुछ ना  कुछ खर्चा निकल ही आता है… अब देखो अगले हफ्ते गुडिया के स्कूल वाले पिकनिक ले जा रहे हैं, 300 रूपये मांगे हैं, पर जो भी हो एक अच्छे पिता की तरह मैं भी जानता हूँ वो जाना चाहती है, तो मैं उसे जरुर भेजूंगा। मेरे अभावो को मेरी बेटी क्यूँ भुगते, जब तक संभव है, तब तक तो नहीं, कतई नहीं।

अचानक बिटिया के रोने की आवाज़ से आँख खुली तो देखा मेरा चश्मा जमीन पर पड़ा है, दो टुकड़े में… “पापा मैं वो… मैं स्टूल पर चढ़ कर अपनी किताबें उठा रही थी।” छह साल की बेटी ने गलती से मेरा चश्मा गिरा दिया था स्टूल से और रो रही ही, मैंने कहा था न गरीब के बच्चे बचपन में ही समझदार हो जाते हैं, उसे भी इल्म है, और क्यूँ न हो, पुराने जर्जर टेप से लिपटे चश्मे में कुछ छुपाने को है ही कहाँ…
“ओह कोई बात नहीं बेटा, आप जाओ पढाई करो” किसी भी पिता की तरह मैं अपनी बेटी को रोते हुए नहीं देख सकता, पर मेरा चश्मा ??
मैंने बस एक मायूसियत से उसे घूरते हुए बुदबुदाया  – “माफ़ करना दोस्त, एक टेप और चलेगा ना ?”

और मैं ही नहीं मेरी मजबूरी पर मेरा चश्मा भी मुस्कुरा दिया…

 

“Run run run, run fast” said the big red sun
“run, run and hide,” said the bright blue sky

“but why must I run?” said the ant to the sun
“there’ll be shower of disasters, they might kill everyone.”

“but why must I hide?” said the ant to the sky
“bad things will happen to the world, maybe no one will survive'”

“but why must it happen?” said the ant to the sun
“I can’t put it any simpler, earthians are dumb.”

“It will all end soon,” said the big blue moon.
“they were given a paradise, which they have sacrificed.”

“the ocean the mountains the trees and all of human kind,
it will all come to an end, it’s just a matter of time.”

“but what must I do?” said the little ant
“just run, run as fast as you can!”

“tell’em everything, everything you were told.”
and here ends the story of the ant that changed the world…

Absurdity..

Posted: November 24, 2012 in My Life, So called Poetry

All I ever did was to kid around
Making fun of her every word
My seriousness was nowhere to be found
I was merely acting absurd

Whenever she would stare
I would make a funny face
Whenever she would show her care
I would just drift off to space

I never stopped blabbing
Even when she gave her clue
I continued to be my childish self
So she never knew,  she never knew

She never knew how much it hurt
For me to keep it all inside
If only she look deeper within
She’d see the struggle I tried to hide

Now that it’s all open to her
I pretend that it wasn’t there
She’ll never see the tears I cry
Whenever she came my way

I can’t say I had something
cuz I just hid the truth
So I’ll always be left hanging
For she never knew,  she never knew

A Cheesy Poem :P

Posted: November 18, 2012 in So called Poetry

Just want some contact, 
But we are not like that.
I know its only miles
To bring me to ur smile.
You’ll be missing
And I will be busy.
Won’t see you for weeks
And the distance will keep.
Only meet prepared,
Once my mind’s like a fair;
An impromptu meeting;
An off beat greeting;
Are the tickets worth it,
To leave like deserted?

I guess I don’t know,
As they say time will tell.
But I’ll miss you…
Just … for now, farewell!!

Hummingbird

Posted: November 3, 2012 in So called Poetry

There’s a Hummingbird in my chest,
in this creaky aching cage of bone.
And I hold it there too tightly
just to hush its maddened drone.

And when I wake each morning,
again, first thing, I trap it still.
It’s harder, harder every day
to clench the growing thrill

of panic, at seeing this whole world
all clean-pressed and merry aglow.
I tremble, shuuder as I wonder
if someone might just know

what dreams I had last night
as I starved for blessed rest
that never came, as hummingbird screams
tore through my prison chest.

If only I could crush its wings
to feathers and debris.
Or better yet, have mercy
and set the mad thing free.

But my poor, dear hummingbird,
must stay forever in its cage.
So I wash the nightmares from my skin
and claw my way onstage.

Dreams and Clouds

Posted: October 14, 2012 in So called Poetry

White clouds wander in the sky,
Like little balls of snow.
They attract me, I don’t know why;
With their every bit of glow!

And I  fancy they call me,
Up there to the sky.
Where I wish I could go
And happily lie!

And roam about all day,
As they do, happy and gay.
All summer I lay,
With thoughts on my way!

But then I thought and sighed,
“Oh! how will I go?”
It’s too far away.
And I watched the clouds again,
From the earth where I stay!!